in ,

AngryAngry OMGOMG GeekyGeeky LoveLove CuteCute

आपदा या अवसर | Aapda yaa Avsar Covid-19 | Pandemic or money making opportunity? | Article by Priyanka | Hindi

aapda yaa avsar, aapda ya avsar, आपदा या अवसर, blogscart article, blogscart story, Fight against Corona ,Fight against Corona, corruption in covid, money is bigger than life?, money is bigger than life
Created Using Canva | Pixel Integration
Share with your friends

Aapda yaa Avsar

Read this article on Aapda yaa avsar  Priyanka Sharma and share it with your friends, and don’t forget to share your valuable comments in the comment section below to motivate and appreciate their amazing work. Let us know in comment section if you found this article relatable.

जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं कि हम सब एक बहुत बड़ी महामारी से जूझ रहे हैं ।जहां बहुत से मासूम अपनी जान गवा रहे हैं लोग बिना गुनाह की सजा पा रहे हैं , अपनों से अपने दूर हो रहे हैं, घर में कोई कमाने वाला सदस्य नहीं रहा, कहीं लोग अपनी लापरवाही से इसके शिकार हो रहे हैं और कहीं तो लोग बिना किसी गलती के सजा भुगत रहे हैं, ऐसे बुरे हालात में भी कई अवसरवादी लोग अवसर तलाशने में लगे हुए हैं ।

अगर हम बात करें राजनीति की, तो राजनेता इस अवसर पर भी राजनीतिक रोटियां सेंकने में लगे हुए हैं ।उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता कोई मरे या जिए। उन्हें तो केवल अपनी कुर्सी से प्यार होता है। वह कुर्सी बची रहनी चाहिए  किसी भी कीमत पर ।ऐसे अवसर पर उन्हें कुछ ऐसे सुनियोजित कार्य करने चाहिए जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों का भला हो सके लेकिन नेता अपना राजधर्म भूल कर राजनीति करते हैं।

अगर अस्पतालों को देखें तो वहां पर भी लोग अवसर तलाशते मिल जाएंगे ।वह डॉक्टर जिन्हें लोग भगवान समझते हैं वह खुद ही पैसे कमाने की होड़ में लगे रहते हैं ।कभी दवाइयां बेचते हैं तो कभी महंगे इलाज करते हैं । इतने महंगे इलाज एक छोटी सी दवाई भी गरीब परिवार खरीद नहीं सकता। कई जगह पर तो सरकारी दवाइयों को बड़े ऊंचे- ऊंचे दामों पर बेचा जा रहा है। दवाइयों की कालाबाजारी हो रही है।

ऐसे ही बड़े-बड़े संस्थानों को देखें तो वहां भी अवसरवादियों की कमी नहीं है। इस महामारी के दौरान जहां लोगों की जान जा रही है। नौकरियां नहीं है। उनसे महंगी- महंगी फीस वसूले जा रही हैं। अगर विद्यालय चाहे तो विद्यार्थियों की फीस  आधी तो कर ही सकता है क्योंकि जिस परिस्थितियों में उन्होंने अपना शिक्षक स्टाफ आधा कर दिया है   उनकी सैलरी आधी कर दी है। स्कूल बस बंद है। बिजली का खर्चा नहीं है।

क्लर्क स्टाफ की छटनी कर दी गई है। सफाई कर्मचारी नहीं है, और अभिभावकों से फीस पूरी ली जा रही है पूरे 12 महीनों की । तो काफी सारे अपने खर्चों की जो कटौतीया है उसको वह लोगों की भलाई में लगा सकत है। बेचारे शिक्षक !!.……. जिसका घर ही शिक्षण कार्य से ही चलता है वह इस परिस्थिति में भी अपनी नौकरी बचाने के लिए मजबूर हैं और आधी सैलरी पर ही अपना शिक्षण कार्य सुचारू रूप से करते हैं ।जहां पर नौकरियों की कमी है बेरोजगारी है वह छटनियां बराबर हो रही है,बेगारी है, वहां पर लोग बेबस है। अभिभावकों से पूरी फीस वसूली जाती है और शिक्षक स्टाफ को वेतन से महरूम रखा जाता है। बार-बार स्कूल की आर्थिक अव्यवस्था का हवाला दिया जाता है ।

aapda ya avsar, आपदा या अवसर, blogscart article, blogscart story, Fight against Corona ,Fight against Corona, corruption in covid, money is bigger than life?, money is bigger than life
Created Using Canva | Pixel Integration

बड़ी-बड़ी उत्पादन कंपनियां भी मजदूरों की छंटनी करने पर लगी है जो इतने सालों से प्रॉफिट कमाती आई है वह 1 साल के लिए भी अपने श्रमिकों को इस महामारी के समय में मूल सुविधाएं नहीं दे सकती बल्कि उनकी कटौती करने पर लगी हुई है, हां शुरुआत में तो कुछ आर्थिक चुनौतियां थी लेकिन अब सभी चीज वापस से अपनी पटरी पर आ चुकी है लेकिन बेचारे मजदूर, श्रमिक आज भी वह उसी परेशानी से जूझ रहा है तनख्वाह में कोई भी बढ़ोतरी नहीं है उनकी पिछली ही तनख्वाह  भी उन्हें टाइम पर नहीं मिल रही है|

  • जबकि इस समय आर्थिक परेशानियां बहुत है और साथ-साथ करोना कॉल  को लेकर मानसिक परेशानियों से भी इंसान बहुत जूझ रहा है, उन्हें यह नहीं पता कब क्या हो जाए लेकिन इंसान किसी की मदद न करके अपने कमाने का अवसर खोज रहा है अधिक से अधिक कमाना ,अधिक से अधिक जमा करने की होड़ में लगा हुआ है उसे यह बात समझनी होगी कि जान है तो जहान है अगर आप जिओगे तो ही पैसे काम आएंगे इसीलिए लोगों की मदद करें उनकी पीड़ा को समझें कमाने के तो और भी बहुत मौके आएंगे पहले हम इस आपदा से तो बाहर आ जाए

कंपनी के लिए उसका श्रमिक जी तोड़ मेहनत करता है वही कंपनी उसकी परेशानी के समय उससे मुख मोड़ लेती है यह तो बहुत गलत बात है अब आप ही सोचो कि कल तक जो पिछले 20 साल से 30 साल से जिसके लिए वो काम करता है जिसको उसने मोटी रकम कमा कर दी है आज उसकी परेशानी में वही उसके साथ नहीं  है ,,,ऐसे में वह बिचारा  कहां जाएगा | इसीलिए खुदगर्ज ना  बन कर हमदर्द बने अवसर तो बाद में और भी आएंगे…

कृपया आपदा में अवसर ना तलाशें ऐसा नहीं है कि सभी कंपनियां यह सभी संस्थान अपने कर्मचारियों का ध्यान नहीं दे रहे हैं आप टाटा जी को ही देख लीजिए जिन्होंने अपने श्रमिकों का हर कदम पर साथ निभाया है यहां तक कि वह अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलेंडर तक पहुंचा रहे हैं और भी कई सारे है कंपनियां योगदान दे रही हैं ऐसा नहीं है कि सभी इस अवसर में शामिल है कुछ अच्छे लोग भी हैं अब इनकी बात छोड़कर अगर हम निचले स्तर पर देखे तो पाते हैं कि जो छोटे छोटे लोग हैं वह भी इस महामारी में अवसर को नहीं छोड़ते। जैसे  कोरोना से मृत्यु होने पर शव को हाथ भी नहीं लगाते और शव को श्मशान पहुंचाने के 8 से ₹10000 तक मांगते हैं ।

लकड़ियां तक नहीं मिल रही है लकड़ियों की भी कालाबाजारी हो रही है। यानी अब तो करोना महाकाल में जीने से लेकर मरने तक शोषण ही शोषण है ।अगर मरीज अस्पताल में भर्ती हो जाता है तो एक मोटी रकम वसूली जाती है और तब भी उनकी सेवा के लिए ना तो नर्स स्टाफ  होता है और ना ही कंपाउंडर आकर उनकी हाल खबर लेता है। एक बार ऑक्सीजन सिलेंडर फिट करने के बाद दोबारा देखने नहीं आता। अगर वही आप कुछ नोट दिखा दें तो शायद वह आ जाए ।कुछ लोग तो कोरोना की वजह से नहीं बल्कि इन अवसरवादी लोगों की वजह से मर रहे है। सिलेंडर के दाम इतने ज्यादा बढ़ा दिए गए हैं कि एक  मध्यम वर्ग का व्यक्ति भी उसे  वहन नहीं कर पाता।

इस आपदा में सरकार को तो छोड़ो प्रेशर ग्रुप भी इस अवसर को छोड़ना नहीं चाहते । कुछ अपनी मांगों को लेकर अड जाते हैं। मौके की नजाकत को नहीं समझते। तो इसी मौके का फायदा उठाकर पड़ोसी मुल्क भी हावी हो जाता है। पड़ोसी मुल्क का तो मकसद ही देश को कमजोर करना है ,और यह सब जानते समझते हुए भी हमारे पढ़े-लिखे नेता उस में उलझ जाते हैं।अपोजिशन पार्टी का मतलब यह नहीं है कि आप हर बात में विरोध करें ,सही में भी गलत म भी, हालात को देखते हुए सरकार की मदद करनी चाहिए

अगर हम सब अपने फायदे को ना देखकर जनहित के बारे में सोचें तो बहुत अच्छा होगा । अगर आज यह जो थोड़ा है उसे मिल बांट कर खाएं तो यह परिस्थितियां भी पार हो जाएंगे और आगे फिर वही अच्छे दिन आएंगे ।जरूरत है हमारी समझदारी की, हमारे सहयोग की ,और हमारे नैतिक मूल्यों की जो कहीं ना कहीं इंसान खो बैठा है ।अगर आज वह अपनी जिम्मेदारियां समझ जाए,खुद अपनी अपनी सब जिम्मेदारियां उठाना शुरू कर दें, एक निचले स्तर से अगर हम इस करप्शन को ,इस कालाबाजारी को दूर करें तो वह दिन दूर नहीं जब इस देश से भ्रष्टाचार दूर हो जाएगा।

हमें बड़े-बड़े भ्रष्टाचारियों को ठीक करने की जरूरत नहीं है, बल्कि जरूरत है कि निचले स्तर से शुरूवात करने की। निचले स्तर यानी खुद से ,घर से और फिर अपने दफ्तर से ,फिर अपने गली मोहल्ले से , फिर अपने जिले से ,फिर अपने राज्य से ,फिर देखते देखते धीरे-धीरे फिर अच्छे दिन वापस आ जाएंगे। अपने कर्तव्य का पालन करेंगे तो कोरोना भी हार जाएगा।

Let us know what do you guys think about this article Aapda yaa Avsar, in comment section below  and motivate our author by sharing post and also commenting on the post or also Contact us if you interested in writing with us.

Stay tuned for more amazing stories, poems & articles like this.

For sponsor any article or your article you can mail us with your logo ready and details.

Our Officials

Instagram Youtube free icon Facebook


Share with your friends

Report

What do you think?

32 Points
Upvote Downvote
Subscribe
Notify of
guest
12 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Ananya
4 months ago

i must say the article is amazing and contains lots of harsh truth

Sushila
Sushila
4 months ago

bilkul sahmat hai ji ,yahi to ho rha h
har jagah shoshan, bhrastachar

arreee papiyon! bhagwan se to daro…
paisa le kar upar nhi jaoge

Shashi
Shashi
4 months ago

kuchh log logo ka haq mar kr daan dete h. batao kaisa daan h ye

Shashi
Shashi
4 months ago

I’m outraged with this type of people

Rachna
Rachna
4 months ago

so cruel that guy

Vipin
Vipin
4 months ago

bitter truth

Sulekha
Sulekha
4 months ago

karela neem chadha😬😧👹

lavleen
lavleen
4 months ago

bilkul sachcha article h

Abhishek
4 months ago

this is how society works.. everyone wants the change to be happen but no one want to be the part of that change

Rekha
Rekha
4 months ago

corona se jyada pareshan to daftarshahi ne kr rkha h

Naveen
Naveen
4 months ago

Really true I’m a teacher and not just in the school where I teach but even all the other schools in my circle making group (like a gangs) and keep deducting salary even fired teachers for the time lockdown stays like they are manufacturers or OEM company whose business is having a large impact cuz of lockdown, but from students they even charge for the June month fee too.

kajal
kajal
4 months ago

I’m annoyed with pessimistic situation there is no option to servive happily without any terms and conditions

Written by Priyanka Sharma

project gemini, roger that, blogscart article, blogscart stories, space geek, space story

Roger That 6 Project Gemini | Article by Anurag Saini

old generation vs new generation, generation gap, blogscart article, blogscart, kid, new generation, old generation, blogscart stories

Old Generation Vs New Generation | Generation gap | 3rd article by Samta Sharma | English